Thursday , July 18 2019
Breaking News
Home / States / 17 जातियों को अनुसूचित जातियों में शामिल किया। पर अब इनका कोटा 32% तक बढ़ाएंगे या सिर्फ राजनीति होगी?

17 जातियों को अनुसूचित जातियों में शामिल किया। पर अब इनका कोटा 32% तक बढ़ाएंगे या सिर्फ राजनीति होगी?

उत्तर प्रदेश लखनऊ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया की 17 जातीयां जो पहले ओबीसी में थी उन्हें अब अनुसूचित जाती की किया गया है। और अब से वो अनुसूचित जाती का प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते है।

इस से पहले भी मा.मुलायम सिंह, मा. मायावती और अखिलेश यादव इनके मुख्यमंत्री रहते हुए ऐसे करने किया गया था पर हर बार केंद्र ने किसी कारण यह अटका दिया था।

दूसरी दलित जातियों के साथ-साथ 17 अति पिछड़ी जातियां जिसमें कहार, केवट, मल्लाह, निषाद, कुम्हार, कश्यप, बिंद, प्रजापति, धीवर, भर, राजभर, ढीमर, बाथम, तुरहा, मांझी, मछुआ और गोड़िया अब अनुसूचित जाति का सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकती हैं।

मुख्यमंत्री के इस कदम को अपने पक्ष में माहौल तैयार करने को लेकर भी देखा जा रहा हैं। जाहिर बात है बहुत पुरानी मांग को सिर्फ वोटो क लिए अपने पक्ष में करने का काम किया गया हैं।

जातिनिहाय गणना के अनुसार अनुसूचित जाती को 15% और अनुसूचित जनजाति को 7.5% प्रतिनिधित्व प्राप्त हुआ है। और 52% ओबीसी को मात्र 27% प्राप्त हुआ है। अब इस अनुसूचित जाती की सूचि में 17% आबादी और बढ़ गयी हैं। इस अनुसार यह दिलचस्प होगा की सरकार इनका दायरा 17% आबादी के हिसाब से बढ़ाती है क्या? या सिर्फ यह राजनितिक फैसला बनकर रह जाएगा। सामाजिक रूप में लोगो को इसका फायदा नहीं मिल पाएगा।

वैसे भी 49.50% अब सिर्फ कहने की बात बची हैं। EWS कोटे के लिए केंद्र की भाजपा सरकार ने पहले ही 10% बढ़ाया हैं और अभी महाराष्ट्र में मराठा प्रतिनिधित्व को लेकर वहाँ के हाई कोर्ट ने इस सीमा को लांघने की सरकार की कार्रवाई को जायज बताया है।

यह भी देखना बहुजन नेता बहन मायावती,अखिलेश यादव,ओमप्रकाश राजभर,अनुप्रिया पटेल की इसपर क्या प्रतिक्रिया होगी। क्या वो इस कोटे को बढ़ाने की मांग करते है या फिर से अपनी चुप्पी साधकर समाज को भाजपा के इस खेल का शिकार होने देते है।

इस तरह की मांग सरकार में मंत्री रहते हुए ओमप्रकाश राजभर भी किए थे। और आज देखना होगा की क्या यह नेता इसका दायरा भी आबादी के अनुरूप 17% बढाकर 32% करने की मांग करते है क्या?

About admin

Check Also

लोकसभा 2019: उत्तर प्रदेश,श्यामली में दलित को नहीं डालने दिया वोट,EVM पर भी शंका और खराबी

उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनावों के वोटिंग शुरू हो चुकी है। जगह जगह उम्मीदवारों के चयन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *