Tuesday , February 19 2019
Breaking News
Home / Blog / शिव – पार्वती भाई बहन हैं ? शिव की सवारी चूहा है ? ~धर्ममुक्त जी

शिव – पार्वती भाई बहन हैं ? शिव की सवारी चूहा है ? ~धर्ममुक्त जी

हिन्दू धर्म को समझने के लिए बुद्धि का विलक्षण
होना अतिआवश्यक है
वरना आप इसकी मृग मरीचिका के शिकार हो सकते हैं क्योंकि इसका हाल भानु मति के कुनबे जैसा है प्रत्येक ग्रंथ के अनुसार इसकी कथाएँ बदलती है पात्र वही रहते हैं रिश्ते बदल जाते हैं वेद कुछ कहते हैं तो पुराण कुछ और ही कहते हैं, वाल्मीकि रामायण और महाभारत की तो बात ही छोड़िए,
अब मैं आपको एक उदाहरण देता हूँ ॠग्वेद की शुरुआत अग्नि देव की स्तुति से होती है दस में से आठ मंडलों की शुरुआत अग्नि देव से है फिर भी ॠग्वेद के सबसे बड़े देवता अग्नि देव नहीं हैं उनके स्थान पर सब इंद्र के पीछे लगे हुए हैं, ॠग्वेद में इंद्र से बड़ा, इंद्र से शक्तिशाली, इंद्र से ज्यादा दानवीर कोई देवता नहीं है, जैसे जैसे ॠग्वेद के मंडल आगे बढ़ते हैं देवताओं की गिनती बढ़ती रहती है कहीं अग्नि सबसे बड़े हो जाते हैं तो कहीं रुद्र (शिव) , कहीं ब्रह्मा तो कहीं विष्णु, कहीं सविता देव तो कहीं विश्वदेवो,
समझ ही नहीं आता हिन्दू धर्म का सबसे बड़ा देवता है कौन ?
चलो आपको ले चलता हूँ एक ऐसे रहस्य की तरफ जो कि मुझे यजुर्वेद में मिला, बहुत खास जानकारी हुई तो सोचा आपको भी अवगत कराया जाए,
आप रुद्र (शिव) के बारे में तो जानते ही हैं उनकी पत्नी अंबिका के बारे में भी सुना होगा, इन दोनों के बारे में यजुर्वेद कहता है कि रुद्र और अंबिका भाई – बहन हैं ?
लगा ना जोर वाला झटका ? मुझे भी लगा था मगर क्या करूँ वेद है ब्रह्मा के मुख से निकला है झूठ तो हो नहीं सकता, परंतु पुराणों का क्या वे तो हर जगह एक ही राग अलापे घूम रहे हैं कि दोनों पति पत्नी हैं!
उसके भी आगे सुनो यजुर्वेद में लिखा है कि रुद्र की सवारी चूहा 🐭 है, कर लो खेती! पुराण चीख चीख कर कह रहे हैं कि शिव के पुत्र गणेश की सवारी चूहा है पता नहीं बाप बेटा में से किसकी सवारी चूहा है ?
अभी भाई – बहन अथवा पति – पत्नी का फैसला हुआ नहीं, अब इस चूहे ने विवाद खड़ा कर दिया! भाई  हम तो इसीलिए धर्ममुक्त बन गए कौन पड़े मूर्खता के पचड़े में!
वेदों की सुनें या पुराणों की!
सब आफत हैं अपने प्राणों की!!
अरे भाई रुको, नीचे 👇 यजुर्वेद अध्याय ३ के लाल घेरे के अंदर जरूर पढ़ना, और आलोचक भक्तों आप से अनुरोध है यजुर्वेद खोलें अध्याय तीन पर जाएं और सत्यता की जांच कर लें!

तो भाईयो इस लेख से क्या सीख मिली ?
कमेंट में जरूर लिखना!

About Bharat Gan

Check Also

रामायण एक कल्पना ~ धर्ममुक्त

अकसर ज्ञानी और अज्ञानी मित्र यही बहस करते हैं कि रामायण महज एक कपोलकल्पित कवि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *